#SBGBT 29 वां पड़ाव पदमपुरा (हरियापुरा), [दिनांक 28, अप्रैल 2019]

#SBGBT 29 वां पड़ाव पदमपुरा (हरियापुरा), [दिनांक 28, अप्रैल 2019]

नमस्कार साथियों,
      
SBGBT “सोच बदलो गांव बदलो यात्रा” कार्यक्रम के माध्यम से ग्रामीण परिवेश में जन जागरूकता और जन जागृति के लिए निरंतर प्रयासरत है। टीम का मानना है कि ग्रामीण परिवेश में बदलाव लाने के लिए जन जागरूकता सबसे महत्वपूर्ण है। जन जागरूकता के माध्यम से ही प्रशासनिक सहयोग और सरकारी योजनाओं की सही जानकारी सुनिश्चित की जा सकती है। बदलाव की इस मुहिम को आगे बढ़ाते हुए और टीम के महत्वपूर्ण  कार्यक्रम “शिक्षा पाओ-ज्ञान बढाओ प्रतियोगिता” को जन जन तक पहुंचाने के लिए टीम की 29वीं मीटिंग का आयोजन पदमपुरा (हरियापुरा) में किया गया।

जैसाकि आपको विदित है, कि 3.02.2019 को SBGBT के सौजन्य से धौलपुर जिले के विभिन्न गांवों को कुल 20 सर्कलों में विभाजित करके “शिक्षा पाओ-ज्ञान बढाओ प्रतियोगिता” का आयोजन किया गया। जिसमें कक्षा 6 से 12वीं तक के विद्यार्थियों ने भाग लिया था। परिणाम की घोषणा के पश्चात सफल रहे प्रथम तीन प्रतिभागियों को पुरस्कृत करने हेतु सम्मान समारोह का पहला आयोजन टीम की इस मीटिंग के साथ ही किया गया। जिसमें खैमरी गाँव के ग्रामीण और प्रतिभागी भी उपस्थित रहे। पदमपुरा गाँव के बुजुर्ग, महिला, युवा और बच्चों ने भी बडी संख्या में भाग लिया। इसके अलावा सोच बदलो-गाँव बदलो कोर टीम के वरिष्ठ सदस्य भी इस समारोह में उपस्थिति रहे। इस दौरान टीम के वरिष्ठ सदस्यों और ग्रामीणों के मध्य गहन विचार विमर्श हुआ तथा गांव की विकास के लिए विभिन्न मुद्दों पर सहमति भी बनी। आप सब सदस्यों की जानकारी के लिए विचार विमर्श का सार आपके समक्ष प्रेषित है:-

1.  पदमपुरा(हरियापुरा) गाँव सरमथुरा तहसील के पूर्व में 3-4किमी दूरी पर तालाब के किनारे बसा छोटा गाँव है। जिसकी कुल आबादी 500 के करीब है। यहाँ की आवीजिका का मुख्य साधन खेती और खनन कार्य है। सरमथुरा से गाँव को जोड़ने वाली मुख्य सड़क वर्षों से जर्जर पडी है, जिसके सुदृढ़ीकरण व डाबरीकरण हेतु आवाज़ उठाने की दरकार है।

2. शिक्षा के बेहतर संसाधन अपलब्ध ना होने के कारण यहाँ की प्रतिभाओं को कठिन परिस्थितियों से गुजरना पडता है, इसके उपरांत भी  गाँव के बच्चों में शिक्षा के प्रति जो लगन और लालसा देखी गई, वह प्रशंसनीय और अद्भुत है। भविष्य के सपने इन बच्चों की आंखों में स्पष्ट रूप से देखे जा सकते हैं।

3. कार्यक्रम का आयोजन गाँव के तालाब की पाल पर लगे विशाल वृक्ष के नीचे खूबसूरत स्थान पर किया गया। यह तालाब ही इस गाँव की आजीविका का मुख्य आधार है, जिसमें ग्रामीणों के अनुसार 25 प्रतिशत पानी अभी भरा है, जो इस बार के सीजन को आसानी से बिताने में पर्याप्त है।

4. गाँव के रास्ते अति सँकरे और दुर्गम हैं, जिनके बगल घूरे आदि के ढेर लगे हुए हैं। जिन्हें सुगम और विस्तृत करने के लिए गाँव की युवा टीम निरंतर प्रयासरत है। इस टीम में अपने गाँव को बदलने का जो जज्बा और समर्पण है, वह वाकई अतुलनीय और अनुकरणीय है।

5. ग्रामीण क्षेत्रों में तमाम परिस्थिति और अभावों से जूझ रही प्रतिभाओं को निखारने और उन्हें बेहतर व सक्षम नागरिक बनाने के उद्देश्य से शिक्षा पाओ ज्ञान बढाओ प्रतियोगिता ने इस गाँव के बच्चों के उज्ज्वल भविष्य के निर्माण हेतु मजबूत बुनियाद स्थापित करने का कार्य किया है। जो निश्चित रूप से इन नौनिहालों के लिए वरदान साबित होगी।

6. कार्यक्रम के दौरान टीम के प्रत्येक सदस्य ने अपने विचार रखते हुए, टीम के विजन, संकल्प, उद्देश्य और कार्य प्रणाली के बारे में ग्रामीणों को सहजता से अवगत कराया। इसके बाद प्रतियोगिता में सफल हुए कुल 18 बच्चों को प्रशंसा प्रमाण पत्र, शील्ड, स्कूल बैग, पैन आदि पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया।
7. इस कार्यक्रम की सबसे महत्वपूर्ण बात ये रही, कि गाँव के बुजुर्ग व्यक्तियों के साथ-साथ आदरणीय बुजुर्ग माताओं ने भी अपने हाथों से पुरस्कार देकर बच्चों को सम्मानित करके उनका मनोबल बढाया। अपने जीवन के सर्वोच्च पलों में ऐसा अभूतपूर्व अवसर पाकर बूढी माताओं के चेहरे पर जो उत्साह और खुशी के भाव झलक रहे थे, वह अविस्मरणीय और मनमोहक थे। आज गाँव के बच्चे, युवा और बुजुर्गौं में ऊर्जा और प्रसन्नता का जो महौल देखा गया, वह अभूतपूर्व था। ऐसा नजारा टीम के प्रत्येक कार्यकर्ता के हृदय को हर्ष और गौरव से भर देता है। शिक्षा के प्रति जो लगन, जिज्ञासा, और जागरुकता यहाँ के बच्चों में देखी गई वह प्रशंसनीय और अप्रतिम है।

दोस्तों, SBGBT का ये मानना है, कि किसी भी गाँव, समाज और राष्ट्र के पिछड़ेपन एवं उनकी समस्याओं का निवारण केवल शिक्षा के बेहतर और सुलभ माध्यम से ही किया जा सकता है। SBGBT द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में जनजागरुकता और जनसहभागिता के साथ ही बच्चों को उचित शैक्षिक संस्कार और संसाधन प्रदान करने के लिए भी विशेष बल दिया जा रहा है। बच्चों के सर्वांगीण विकास को सहज रूप से धरातलीय स्तर पर सफल बनाना टीम का मौलिक संकल्प है। जिसके बहुआयामी परिणाम निकट भविष्य में हम सभी को देखने के लिए मिलेंगे।
आज के कार्यक्रम को सफल और यादगार बनाने के लिए SBGBT सर्वप्रथम पदमपुरा गाँव की युवा टीम, बुजुर्ग, और माता बहनों का विशेष आभार प्रकट करती है। इस गाँव के युवा जिस जज्बे और जिम्मेदारी के साथ गाँव के प्रति अपने कर्तव्य का पालन कर रहे हैं, वह इस गाँव की दिशा और दशा को बदलने में अवश्य सफल होंगे। टीम की अनंत शुभकामनाएं आपके साथ हैं।
इसके अलावा दूर-दूर से इस भीषण गर्मी में भी पधारे समस्त आगंतुक और साथीगणों का भी आभार, जिन्होंने जनोत्थान की इस पुनीत मुहिम में अपना अमूल्य योगदान दिया। आप सभी का स्नेह और सहयोग इसी तरह हमारे संकल्पों को संबल प्रदान करता रहे। इसी के साथ आप सभी सज्जनों का पुन: हार्दिक आभार।
धन्यवाद।

जय हिंद, जय SBGBT।

Comments

Popular posts from this blog

"Success story of Smart Village Dhanora of Dholpur, Rajasthan"

"एक गुड़िया की पुकार"

विचार ही वस्तु बन जाते हैं (Thoughts become things)!!_राम प्रकाश मौर्य जी IRS कलम से